शब्द अध्ययन: दया

दया एक अत्याधिक भावनात्मक शब्द है जो एक माता-पिता और बालक के बीच के मज़बूत रिश्ते को दर्शाता है| इस वीडियो में, हम अर्थ में धनी इस इब्रानी शब्द को देखेंगे, यह पहला शब्द है जिसका प्रयोग परमेश्वर निर्गमन ३४:६-७ में करता है, अपने आपका वर्णन करने के लिए| परमेश्वर को सम्पूर्ण पवित्रशास्त्र में, एक दया करने वाले जनक के रूप में चित्रित किया गया है -- माता …अधिक पढ़ें

शब्द अध्ययन: अवोन-अधर्म

अधर्म, बाइबिल का एक ऐसा शब्द है जिसका प्रयोग आज-कल बहुत कम लोग करते हैं और जिसका अर्थ और भी कम लोग जानते हैं! बुरे-शब्द श्रृंखला के इस तीसरे और अंतिम वीडियो में हम प्राचीन इब्रानी भाषा के इस शब्द के महत्त्व का अध्ययन करेंगे और एक पूरी नयी सोच के माध्यम से अपने स्वार्थी फैसलों और उनके नतीजों को भी देखेंगे| #BIbleProject #बाइबिल #अवोन-अधर्म

शब्द अध्ययन: पैशा-अपराध

“अपराध” बाइबिल के उन शब्दों में से है जो तब तक स्पष्ट जान पड़ते हैं जब तक उसे किसी और को समझाना न पड़े| इस वीडियो में हम बाइबिल के इस “बुरे शब्द” के रोचक और जटिल अर्थ का अध्ययन करेंगे| बुरे-शब्द श्रृंखला के इस दूसरे वीडियो में मानव स्वभाव पर किये गए एक गंभीर सोच के लिए तैयार हो जाइये| #BIbleProject #बाइबिल #पैशा-अपराध

शब्द अध्ययन: शालोम-शान्ति

आगमन श्रृंखला पर बने वीडयोस में पहला शब्द अध्ययन “शालोम” है जो “शान्ति” शब्द का इब्रानी भाषा में अनुवाद है| अंग्रेजी भाषा में “शान्ति” एक सामान्य शब्द है जिसके विभिन्न अर्थ हैं अलग-अलग लोगों के लिए| बाइबिल में भी यह एक महत्वपूर्ण शब्द है जिसका अर्थ केवल युद्ध की अनुपस्थिति ही नहीं बल्कि किसी और बात की उपस्थिति भी है| इस वीडियो में हम बाइबिल में दी गयी शान्ति का बुनियादी अर्थ जानने का प्रयास करेंगे और देखेंगे कि कैसे यह सब हमें यीशु तक पहुंचाते हैं| #BIbleProject #बाइबिल #शालोम-शान्ति

शब्द अध्ययन: यख़ाल-आशा

बाइबिल में जिन लोगों के पास आशा है वे आशावादियों से बहुत भिन्न हैं! इस वीडियो में हम अध्ययन करेंगे कि कैसे बाइबिल में दी गयी आशा केवल परमेश्वर के चरित्र की ओर देखती है इस भरोसे के साथ की भविष्य वर्तमान से बेहतर होगा| यह आगमन से सम्बंधित शब्द-अध्ययन श्रृंखला का दूसरा वीडियो है| #BIbleProject #बाइबिल #आशा

शब्द अध्ययन: कारा-आनंद

इस वीडियो में हम अध्ययन करेंगे उस अद्भुत प्रकार के आनंद का जिसके लिए परमेश्वर के लोग बुलाए गए हैं| यह ख़ुशी वाली मनोदशा से बढ़कर है, परन्तु यहाँ एक चुनाव है कि हम परमेश्वर पर भरोसा रखेंगे कि वह अपनी प्रतिज्ञाओं को पूरा करेगा| यह आगमन से सम्बंधित शब्द-अध्ययन श्रृंखला का तीसरा वीडियो है| #BIbleProject #बाइबिल #कारा-आनंद

शब्द अध्ययन: ख़टा-पाप

बाइबिल के बुरे शब्दों में “पाप” सब से सामान्य शब्द है, पर इसका वास्तविक अर्थ क्या है| इस वीडियो में जो बुरे-शब्द श्रृंखला का परिचय कराता है, हम “नैतिक असफलता” के विचार का अध्ययन करते हैं जो बाइबिल में दिए गए इस महत्वपूर्ण शब्द की बुनियाद में है| मानव अवस्था के एक गंभीर और वास्तविक चित्र को देखने के लिए तैयार हो जाइए | #BIbleProject #बाइबिल #ख़टा-पाप

मंदिर

इस वीडियो में हम जांचते हैं की कैसे बाइबिल में इस्राएल के मंदिर का वर्णन एक ऐसे स्थान के रूप में किया गया है जहां परमेश्वर का संसार और मनुष्य का संसार एक हैं| बल्कि बाइबिल का सम्पूर्ण नाटकीय कथानक, परमेश्वर के मंदिर की कहानी सुना सकता है| उत्पत्ति के आरंभिक पन्नों में, परमेश्वर एक ब्रह्मांडीय मंदिर की सृष्टि करता है, और यीशु के व्यक्तित्व में वह इस मंदिर रुपी संसार को अपना व्यक्तिगत निवास स्थान बना कर इसमें रहने लगता है| बाइबिल की कहानी समाप्त होते तक, सम्पूर्ण सृष्टि परमेश्वर का पवित्र मंदिर बन चुकी है| #BIbleProject #बाइबिल #मंदिर

नए नियम की पत्रियों का ऐतिहासिक सन्दर्भ NT Letters Historical Context

नए नियम में २१ पत्रियां हैं जिन्हें आरंभिक मसीही अगुओं ने प्राचीन रोमी संसार में रहने वाले यीशु के चेलों के समुदायों को लिखी थीं| इन पत्रियों को बुद्धिमानी से पढ़ने के लिए, इनकी ऐतिहासिक पृष्ठभूमि जानना आवश्यक है| ये पत्रियां किन्हें लिखी गयी थीं, प्राप्तकर्ता कहाँ रहते थे और किस बात से प्रेरित होकर इस पत्री को लिखा गया था? इस वीडियो में हम ऐतिहासिक पृष्ठभूमि की विभिन्न परतों की जांच करेंगे ताकि उस बुद्धि को बेहतर समझ सकें जो आज भी ये हमें दे सकती हैं| Hindi Localization Production Team: Diversified Media Pvt Ltd Hyderabad, India Original English Content and Production: BibleProject Portland, Oregon, USA #BIbleProject #बाइबिल

यीशु के दृष्टांत The Parables of Jesus

यीशु नासरी एक निपुण कथा-वाचक था, और उसकी अधिकाँश जानी-मानी शिक्षाएं दृष्टान्तों के रूप में कही गयीं थी| लेकिन इन कहानियां की संरचना मात्र “शिक्षा देने” से कहीं बढ़ कर थी| यीशु ने कहा की इन दृष्टान्तों की रूप-रेखा ऐसी बनाई गयी थी की वे परमेश्वर के राज्य के आगमन से सम्बंधित उसके सन्देश को प्रकाशित भी करें और छुपाएँ भी| इस वीडियो में, हम यीशु के दृष्टान्तों के प्रमुख विषयों को जाचेंगे और पूछेंगे की उसने अपने सन्देश के लिए इनका प्रयोग प्राथमिक वाहन के रूप में क्यूँ किया| Hindi Localization Production Team: Diversified Media Pvt Ltd Hyderabad, India Original English Content and Production: BibleProject Portland, Oregon, USA To view more Hindi BibleProject videos, go to: www.YouTube.com/BibleProjectHindi or www.bibleproject.com/hindi #BIbleProject #बाइबिल #दृष्टांत

आत्मिक प्राणी: शैतान और दुष्टात्माएं The Satan and Demons

बाइबिल की कहानी एक आत्मिक संसार प्रस्तुत करती है जो ऐसे प्राणियों से भरा हुआ है जिन्होंने मनुष्यों के समान, अपने सृष्टिकर्ता के विरुद्ध, विद्रोह किया| बहुत सारे रोचक कारण हैं जिनके चलते इन आत्मिक विद्रोहियों के विषय में हमारी आधुनिक सोच, बाइबिल से सम्बंधित हमारी ग़लतफ़हमियों पर आधारित है| तो आइये उ Hindi Localization Production Team: Diversified Media Pvt Ltd Hyderabad, India Original English Content and Production: BibleProject Portland, Oregon, USA To view more Hindi BibleProject videos, go to: www.YouTube.com/BibleProjectHindi or www.bibleproject.com/hindi #BIbleProject #बाइबिल #शैतान

मेल साइग्न-अप

Sign up for the TWR360 Newsletter

Access updates, news, Biblical teaching and inspirational messages from powerful Christian voices.

Thank you for signing up to receive updates from TWR360.

आवश्यक जानकारी अविधमान है