शब्द अध्ययन: सच्चे प्रेम

इब्रानी बाइबिल में परमेश्वर के सबसे सामान्य वर्णनों में इब्रानी शब्द खेसेद का प्रयोग किया गया है, और इसका किसी अन्य भाषा में अनुवाद करना, लगभग असंभव है! यह शब्द अर्थ में धनी है, और इसमें प्रेम, करुणा और उदारता के विचारों का मिश्रण है| हमारे साथ जुड़िये, जब हम इस आकर्षक इब्रानी शब्द का अध्ययन करते हैं और देखते हैं की कैसे यह, परमेश्वर के चरित्र स…अधिक पढ़ें

सत्यता

बाइबिल में एमेत एक सामान्य शब्द है जिसका प्रयोग किया जाता है परमेश्वर का वर्णन करने के लिए| इसका अनुवाद “विश्वासयोग्यता” या “सत्य” किया जा सकता है| तो जब लेखक कहते हैं की परमेश्वर “एमेत से भरपूर है,” तो वे कह रहे हैं की वह विश्वासयोग्य और सच्चा है—हम उस पर भरोसा कर सकते हैं| पर भरोसा करना, हमेशा आसान नहीं होता है| इस वीडियो में, हम देखेंगे की क्यों हम भरोसा कर सकते हैं की परमेश्वर एमेत से भरपूर है| #BIbleProject #बाइबिल #त्यता

कोप करने में धीरजवन्त

यदि हम कहते हैं की परमेश्वर कोप करने में धीरजवन्त है तो इसका क्या अर्थ है? बाइबिल में, परमेश्वर का क्रोध, मनुष्य की बुराई के जवाब में एक ऐसी प्रतिक्रिया है जो परमेश्वर के न्याय और प्रेम से प्रेरित है| इस वीडियो के द्वारा, हम बाइबिल की कहानी में, परमेश्वर के क्रोध और न्याय का अध्ययन करेंगे, और देखेंगे की कैसे यह सब यीशु तक पहुंचाते हैं| #BIbleProject #बाइबिल #कोपकरनेमेंधीरजवन्त

शब्द अध्ययन: दया

दया एक अत्याधिक भावनात्मक शब्द है जो एक माता-पिता और बालक के बीच के मज़बूत रिश्ते को दर्शाता है| इस वीडियो में, हम अर्थ में धनी इस इब्रानी शब्द को देखेंगे, यह पहला शब्द है जिसका प्रयोग परमेश्वर निर्गमन ३४:६-७ में करता है, अपने आपका वर्णन करने के लिए| परमेश्वर को सम्पूर्ण पवित्रशास्त्र में, एक दया करने वाले जनक के रूप में चित्रित किया गया है -- माता और पिता दोनों के रूप में, और उसकी दया यीशु के व्यक्तित्व में समाई हुई है| #BIbleProject #बाइबिल #दया

शब्द अध्ययन: अवोन-अधर्म

अधर्म, बाइबिल का एक ऐसा शब्द है जिसका प्रयोग आज-कल बहुत कम लोग करते हैं और जिसका अर्थ और भी कम लोग जानते हैं! बुरे-शब्द श्रृंखला के इस तीसरे और अंतिम वीडियो में हम प्राचीन इब्रानी भाषा के इस शब्द के महत्त्व का अध्ययन करेंगे और एक पूरी नयी सोच के माध्यम से अपने स्वार्थी फैसलों और उनके नतीजों को भी देखेंगे| #BIbleProject #बाइबिल #अवोन-अधर्म

शब्द अध्ययन: पैशा-अपराध

“अपराध” बाइबिल के उन शब्दों में से है जो तब तक स्पष्ट जान पड़ते हैं जब तक उसे किसी और को समझाना न पड़े| इस वीडियो में हम बाइबिल के इस “बुरे शब्द” के रोचक और जटिल अर्थ का अध्ययन करेंगे| बुरे-शब्द श्रृंखला के इस दूसरे वीडियो में मानव स्वभाव पर किये गए एक गंभीर सोच के लिए तैयार हो जाइये| #BIbleProject #बाइबिल #पैशा-अपराध

शब्द अध्ययन: शालोम-शान्ति

आगमन श्रृंखला पर बने वीडयोस में पहला शब्द अध्ययन “शालोम” है जो “शान्ति” शब्द का इब्रानी भाषा में अनुवाद है| अंग्रेजी भाषा में “शान्ति” एक सामान्य शब्द है जिसके विभिन्न अर्थ हैं अलग-अलग लोगों के लिए| बाइबिल में भी यह एक महत्वपूर्ण शब्द है जिसका अर्थ केवल युद्ध की अनुपस्थिति ही नहीं बल्कि किसी और बात की उपस्थिति भी है| इस वीडियो में हम बाइबिल में दी गयी शान्ति का बुनियादी अर्थ जानने का प्रयास करेंगे और देखेंगे कि कैसे यह सब हमें यीशु तक पहुंचाते हैं| #BIbleProject #बाइबिल #शालोम-शान्ति

शब्द अध्ययन: यख़ाल-आशा

बाइबिल में जिन लोगों के पास आशा है वे आशावादियों से बहुत भिन्न हैं! इस वीडियो में हम अध्ययन करेंगे कि कैसे बाइबिल में दी गयी आशा केवल परमेश्वर के चरित्र की ओर देखती है इस भरोसे के साथ की भविष्य वर्तमान से बेहतर होगा| यह आगमन से सम्बंधित शब्द-अध्ययन श्रृंखला का दूसरा वीडियो है| #BIbleProject #बाइबिल #आशा

शब्द अध्ययन: कारा-आनंद

इस वीडियो में हम अध्ययन करेंगे उस अद्भुत प्रकार के आनंद का जिसके लिए परमेश्वर के लोग बुलाए गए हैं| यह ख़ुशी वाली मनोदशा से बढ़कर है, परन्तु यहाँ एक चुनाव है कि हम परमेश्वर पर भरोसा रखेंगे कि वह अपनी प्रतिज्ञाओं को पूरा करेगा| यह आगमन से सम्बंधित शब्द-अध्ययन श्रृंखला का तीसरा वीडियो है| #BIbleProject #बाइबिल #कारा-आनंद

शब्द अध्ययन: ख़टा-पाप

बाइबिल के बुरे शब्दों में “पाप” सब से सामान्य शब्द है, पर इसका वास्तविक अर्थ क्या है| इस वीडियो में जो बुरे-शब्द श्रृंखला का परिचय कराता है, हम “नैतिक असफलता” के विचार का अध्ययन करते हैं जो बाइबिल में दिए गए इस महत्वपूर्ण शब्द की बुनियाद में है| मानव अवस्था के एक गंभीर और वास्तविक चित्र को देखने के लिए तैयार हो जाइए | #BIbleProject #बाइबिल #ख़टा-पाप

मंदिर

इस वीडियो में हम जांचते हैं की कैसे बाइबिल में इस्राएल के मंदिर का वर्णन एक ऐसे स्थान के रूप में किया गया है जहां परमेश्वर का संसार और मनुष्य का संसार एक हैं| बल्कि बाइबिल का सम्पूर्ण नाटकीय कथानक, परमेश्वर के मंदिर की कहानी सुना सकता है| उत्पत्ति के आरंभिक पन्नों में, परमेश्वर एक ब्रह्मांडीय मंदिर की सृष्टि करता है, और यीशु के व्यक्तित्व में वह इस मंदिर रुपी संसार को अपना व्यक्तिगत निवास स्थान बना कर इसमें रहने लगता है| बाइबिल की कहानी समाप्त होते तक, सम्पूर्ण सृष्टि परमेश्वर का पवित्र मंदिर बन चुकी है| #BIbleProject #बाइबिल #मंदिर

मेल साइग्न-अप

Sign up for the TWR360 Newsletter

Access updates, news, Biblical teaching and inspirational messages from powerful Christian voices.

Thank you for signing up to receive updates from TWR360.

आवश्यक जानकारी अविधमान है